बंगाल चुनाव पर बोले प्रणब मुखर्जी के बेटे- कांग्रेस के पास नहीं चुनाव लड़ने के पैसे

25
bengal election congress

देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे और कांग्रेस नेता अभिजीत मुखर्जी से जब रिपोर्टर ने सवाल किया कि क्या कांग्रेस पार्टी बंगाल में पैसे और उत्साह की कमी से जूझ रही है? इसका जवाब देते हुए अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि निश्चित तौर पर पैसे की कमी है और कांग्रेस पार्टी की मदद से और व्यक्तिगत तौर पर ही उम्मीदवार चुनाव लड़ पा रहे हैं।

अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि केंद्र में बीजेपी की सरकार है, जिसके पास पैसों की कमी नहीं है और राज्य में भी टीएमसी की सरकार है। बंगाल में हम 44 साल से सत्ता से बाहर हैं। टीएमसी और बीजेपी से एक साथ लोहा लेना इतना आसान नहीं है। रिपोर्टर ने जब नेता से पूछा कि बिना पैसे के कांग्रेसी प्रत्याशी कैसे चुनाव लड़ेंगे? इसका जवाब देते हुए मुखर्जी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की विचारधारा पैसे खर्च करके चुनाव जीतने की नहीं है। पीढ़ी दर पीढ़ी लोग कांग्रेस पार्टी के सदस्य रहे हैं और यहां पार्टी के सदस्य खरीदे नहीं जाते हैं। अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि वह जमाना चला गया जब कांग्रेस पार्टी टिकट और पैसे दोनों दिया करती थी।

राज्य में बीजेपी के उदय पर अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि बंगाल में ज्यादातर आबादी धर्मनिरपेक्ष है। अभिजीत मुखर्जी ने उदाहरण देते हुए कहा कि मेरे पिता प्रणब मुखर्जी चुनाव उस सीट से जीतते थे जहां 72 फीसदी आबादी मुस्लिम आबादी होती थी और वहां से हिंदू उम्मीदवार जीत जाता था। चलिए उनका तो दबदबा था लेकिन मैं भी दो बार जीता। लेकिन बीजेपी ध्रुवीकरण करने में कामयाब रही। मुझे हिंदू होकर हिंदुओं का वोट नहीं मिला।

कांग्रेस को ज्यादातर मुसलमानों के वोट ही मिलते हैं। दलित सीटों पर बीजेपी की जीत और राज्य में मुस्लिम नेतृत्व ना पैदा करने के सवाल पर अभिजीत मुखर्जी न कहा कि यह आरोप गलत है। कांग्रेस में सबको मौका दिया जाता है। बांग्लादेश से आए दलितों के सवाल पः अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि बंगाल में दलित और ब्राह्मण वाला सवाल है ही नहीं। दिलीपी घोष के सवाल पर अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि दिलीप घोष के बीजेपी अध्यक्ष बनने से पहले मैंने उनका नाम ही नहीं सुना था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here